Thursday, 21 January, 2010

रोका जा सकता है ग्लोवल वार्मिग।

मौसम मेँ आ रहे परिवर्तनोँ को रोकने मेँ आवोगाद्रो की यह परिकल्पना बहुत उपयोगी सिद्ध हो सकती है। जिस के अनुसार ...सामान्य  ताप व सामान्य दाव  पर सभी गैसोँ के 1 मोल या एक ग्राम अणु द्रव्यमान का आयतन 22.4 लीटर होता है।
जब हम किसी वालीबाल या फुटबाल मेँ हवा भरते है तो इन का भार लगभग 3 ग्राम से 5 ग्राम तक बढ जाता है। अर्थात इन मेँ 3 ग्राम से 5 ग्राम तक हवा भरी जाती है। अब हम आवोगाद्रो की परिकल्पना के अनुसार गणना करेँ तो
22.4 x 5 =112 लीटर. इस मेँ से यदि बालीवाल या फुटवाल का आयतन लगभग 5 लीटर घटा देँ तोँ हम ने सिर्फ एक बालीवाल या फुटवाल मेँ हवा भर ने के लिए वायुमंण्डल का आयतन लगभग 112 - 5 = 107 लीटर तक कम कर दिया है। तो फिर उन कम्प्रैशर मशीनोँ व टायरोँ मेँ सम्पीडित हवा की गणना करेगेँ जिन मेँ कई टन भार उठाने की क्षमता होती है।
समीकरण .......
P1 V1 = P2 V2
माना किसी कम्प्रैशर मशीन का आन्त्रिक आयतन 100 लीटर तथा उसके अन्दर का दाब 1 वायुमण्डलीय दाब से बडा कर 150 पास्कल दाब पैदा करने के लिए 100 लीटर की कम्प्रैशर मशीन मेँ 15000 लीटर वायुमण्डलीय हवा भरनी पडती है जो सीधे वायु मंण्डल के आकार को 14900 लीटर कम कर देती है । जबकि पूरी दुनियां मेँ लाखोँ करोडोँ मेँ टायरोँ की संख्या है, और हजारोँ लाखोँ मेँ कम्पैशर मशीनोँ की संख्या बिद्यमान है । जबकि पहाडोँ पर 5000 हजार मीटर की ऊचाई पर ही आक्सीजन की कमी महसूश होने लगती है । टायरोँ मेँ भरी जाने वाली हवा बिक्षोँभ मंण्डल की सबसे अधिक घनत्व वाली आक्सीजन मिश्रित हवा होती है।
यदि बैज्ञानिक टायरोँ टयूबोँ के लिये हवा का कोई विकल्प ढूडने मेँ सफल हो जायें , ओर दुनियाँ भर की सम्पीडित ( कम्प्रैशित ) हवा को वायु मंण्डल मेँ मुक्त किया जाय तो, हमारे वायुमंण्डल का आकार बढ जायेगा ।
1... जिस के कारण ग्रीन हाउस गैसोँ सान्द्रता कम हो जायेगी । और धरती से परावर्तित होने वाली ऊर्जा (ऊष्मा) सीधे अंतरिक्ष मेँ पहुच जायेगी । 2...वैसे भी कार्वन डाय आँक्साइड गैस, सल्फर डाय आँक्साइड गैसेँ जल के साथ क्रिया करके अम्ल बर्षा और ओला वृष्टि के साथ पुनः धरती पर पहुँच जाती हैँ।
3...समुद्र से उठने वाली जल वाष्प को वायु मंण्डल मेँ संग्रहित होने के लिए अधिक स्थान मिलेगा । जिस के कारण सभी भू भागोँ मेँ सन्तुलित वर्षा होगी। (वर्ष 2009 दक्षिणी भारत के अधिकांश राज्य भारी वर्षा के कारण जन धन की हाँनि से जूझते रहे , जब कि उत्तरी भारत मेँ सूखा पढा ओर उत्तराखंण्ड मेँ जनवरी 2010 मेँ भी अनेक स्थानोँ मेँ पीने के पानी का संकट बना हुआ है)।
4...अच्छी वर्षा ओर नियन्त्रित तापमान के कारण हिमालय और ध्रुवोँ पर पुनः नये हिमनद व ग्लैशियरोँ का निर्माण होगा, जिसके कारण समुद्र का जल सतर कम हो जायेगा।
5... समुद्रीय तटीय द्वीप, देश, व शहर, जल मग्न होने से बच जायेगेँ, और माल द्वीप वासी चेन से जी सकेगेँ।
6...सभी भू भागोँ मेँ सन्तुलित वर्षा होगी, कहीँ सूखे से तथा कहीँ बाढ से जन-धन की हाँनि नही होगी।
7...अधिक अन्न उत्पादन से महंगाई का ग्राफ नियन्त्रित रहेगा।
8...ग्लैशियरोँ के पिघलने की दर कम हो जायेगी। जिसके कारण हिमालय के भार मेँ नियन्त्रित परिवर्तन होगा। 9...क्योँकि हिमालय के भार मेँ अनियन्त्रित कमी आने से हिमालय उस कमी को पूरा करने के लिए अपनी ऊचाई बढा देता है । जिसे हम भू कंम्प कहते हैँ । जिसके कारण धरती की घूर्णन गति स्थिर बनी हुई है। जब कभी भारी हिमपात के कारण हिमालय का भार बढ जाता है, तो इस अतरिक्त भार को सन्तुलित करने के लिए हिमालय लावे के बिशाल समुंद्र मेँ धँस जाता है , जो कहीँ सुनामी , तथा कहीँ ज्वालामुखीयोँ को सक्रिय होने के लिए प्रेरित करता है । बर्ना धरती पर सूर्य ओर चन्द्रमा के गुरुत्व बल के अलावा अन्य कोई कारण नही है जो भू कम्प आने के लिए आवस्यक शक्ति व ऊर्जा प्रदान कर सके ।
10...वायु मंण्डल का आकार बढ जाने से अमेरिका मेँ आने वाले समुद्री तूफानोँ की संख्या तथा वेग मेँ कमी आ जायेगी।
अगर कल्पनाओँ को धरातल पर उतरने मेँ बक्त नही लगता तो ...रोक जा सकता है ..... ग्लोवल वार्मिगं

No comments: