Thursday 21 January 2010

रोका जा सकता है ग्लोबल वार्मिग

वायु मण्डल की सबसे निचली सतह जिसे हम बिक्षोभ मण्डल के नाम से जानते हैँ की ऊचाई भूमध्य रेखा पर 16 की .मि. तथा ध्रुवोँ पर 8 कि.मी. है।
यही वह क्षेत्र है जहाँ वायु मण्डल की सभी गति बिधियां जैसे जीवन यापन के लिऐ आक्सीजन, वर्षा ,गर्मी, सर्दी, आंधी, तूफान, बादल, बादलो की गर्जना, घटित होती है। मनुष्य की जन संख्या और उसके द्वारा किये जाने वाले क्रिया कलापोँ के लिऐ हमारी धरती का बिक्षोभ मण्डल बहुत बडा नही है।उस पर भी हम ने वायुमण्डल की सबसे अधिक घनत्व वाली आक्सिजन को सम्पीडित कर टायरोँ तथा कम्प्रेशर मशीनोँ मेँ भर दिया है।जिस के कारण हमारा वायुमण्डल छोटा हो रहा है।सडकोँ पर वाहनोँ की निरन्तर बढ रही संख्या के कारण भविष्य मेँ ग्लोवल वार्मिग ओर अधिक बढेगा। क्यूकि छोटा वायु मण्डंल गर्मियोँ मेँ बहुत गर्म और जाडोँ मेँ बहुत ठंडा हो जाता है।यही कारण है कि नव वर्ष 2010 की पूर्व सन्ध्या पर अमेरिका और यूरोप वर्फ की चादर से ढक गये थे।

No comments: